Posted in कविताएँ

कविता

(कविता) (मुसाफिर का मन) मन ये तेरा परेशान क्यूँ है, इस जग से बेफिक्र क्यूँ है, नित नये…

आगे पढ़े...
कविता
Posted in कविताएँ

कविता

कोई किस्सा अब भी *उस गुलाब में है।* सूखा हुआ जो *दिल की किताब में है।।* शार्प शूटर…

आगे पढ़े...
प्रेम कविता
Posted in कविताएँ

प्रेम कविता

प्रेम कविता थारो रोज़ डे म्हारै हिवड़ै मायं उपज्योड़ी प्रीत नैं नीं समझ सकैलो म्हारी प्रीत री रीत…

आगे पढ़े...
Posted in कविताएँ

*कुचरणी*

*कुचरणी* भोळी-स्याणी उमर बावळी, नैण अचपळा हिरणी ज्यूं। बैण, सुरीला चूंच चिड़कली, बण’री जादूगरणी तूं। सौरम फूटै सांस…

आगे पढ़े...
संदीप पारीक‘निर्भय’ की कविताएँ
Posted in कविताएँ

यह लड़की मुझे कहाँ मिलेगी.? – संदीप पारीक‘निर्भय’ की कविता

आज से कुछ दिन पहले तुमने मुझे भेजी थी अपनी एक तस्वीर और मैंने उसे आहिस्ता से रख…

आगे पढ़े...
सबिता शाह की कविताएँ
Posted in कविताएँ

सबिता शाह की कविताएँ

सुनो, काश तुमसे इतनी मोहब्बत ना होती कि, तुम्हें खो देने का एहसास तुमसे मिलने से ज्यादा हो…

आगे पढ़े...
संदीप पारीक‘निर्भय’ की कविताएँ
Posted in कविताएँ

संदीप पारीक‘निर्भय’ की कविताएँ

कैय सको आप बलात्कार ई मांची पर होय’र आडो आखी रात जोवूं आभौ चांद – तारा पून रै…

आगे पढ़े...