राजस्थानी भाषा को मान्यता दिलवाने के लिए करेंगे प्रयास: डॉ.रामप्रताप

राजस्थानी भाषा को मान्यता दिलवाने के लिए करेंगे प्रयास: डॉ.रामप्रताप
पीलीबंगा । हर आदमी अपनी मातृभाषा को आगे लाना चाहता है।हमें भी अपनी मातृभाषा को नहीं भूलना चाहिए। राजस्थानी भाषा को संवैधानिक दर्जा दिलाने के लिए लोग बड़ी लगन से लगे हुए हैं। हम राजस्थानी भाषा को मान्यता दिलाने के लिए प्रयास जरूर करेंगे।गांव बहलोलनगर में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए ये बातें सिंचाई मंत्री डॉ. रामप्रताप ने कही।
उन्होंने राजस्थानी में मंच संचालन कर रहे हरीश हैरी की तारीफ करते हुए कहा कि यह भाई राजस्थानी भाषा के लिए बड़ी लगन से काम कर रहा है।आज हमारे एक साथी ओम पुरोहित कागद हमारे बीच नहीं है।हमने भाषा के लिए पहले भी साथ काम किया था और आगे भी काम करेंगे।
इससे पहले गांव के गणयमान्य नागरिकों ने डॉ. रामप्रताप का माल्यार्पण कर स्वागत किया। डॉ रामप्रताप जी अपने विकास के कार्य गिनाते हुए विपक्ष पर जमकर हमला बोला और कहा कि हमने सड़क,बिजली,पानी,पक्के खाळे,पुल सहित अनेक बड़े काम किए हैं।हमारे काम जनता के सामने है।जनता हमारे काम को देखे और विचार करे कि इस बार बोट देने का सही हकदार कौन है? इस दौरान उन्होंने क्षेत्र के गांव में करवाए गए कार्यों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि हमने हर गांव ढाणी में काम करवाने की कोई कसर नहीं छोड़ी है।इसी दौरान एक ग्रामीण ने खड़े होकर डॉ रामप्रताप की बात पर मुहर लगाई। ग्रामीण ने कहा कि हमारे खेत में पहले बोतल में पानी लेकर जाते थे और आज हमारे खेत में पानी की कोई कमी नहीं है।
इस दौरान भाजपा में सम्मिलित हुए ग्रामीणों को भी सम्मानित किया गया।कार्यक्रम में जिला प्रमुख कृष्ण चोटिया,सरपंच रीटा मूंढ,घेरूराम गोदारा,मदनलाल मील,इकबाल सिंह,आदराम लोहरा,मनीराम गोदारा,उदाराम नैण,श्रीचंद मरूवा,गुलाबसिंह भूल्लर,चेतराम,लालचंद शर्मा,प्रभुराम पड़गड़,राजाराम मूंढ सहित अनेक गणयमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *