कोस्टूयम ज्वैलरी उद्यमी प्रशिक्षण शिविर का समापन

कोस्टूयम ज्वैलरी उद्यमी प्रशिक्षण शिविर का समापन

हनुमानगढ़। ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार एवं भारतीय स्टेट बैक द्वारा प्रायोजित ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान मंे चल रहे कोस्टूयम ज्वैलरी उद्यमी प्रशिक्षण शिविर का समापन आज हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सहायक महाप्रबंधक नाबार्ड श्री संजय मान्धाता थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान के निदेशक सी.एस. परमार ने की। समापन समारोह का शुभारम्भ अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के समक्ष द्वीप प्रज्जवलित कर किया। प्रशिक्षण के समापन पर महिला थाना हनुमानगढ़ जंक्शन की एएसआई गायत्री देवी के निर्देशानुसार महिलाओं एवं बालिकाओं नीतू बाला व इंद्रा चौधरी द्वारा  आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया गया और महिलाओं को अपनी सुरक्षा के लिये आत्मरक्षा के गुर सिखाये। कार्यक्रम को संबोधित करते हुये निदेशक सीएस परमार ने संस्थान का मासिक प्रतिवेदन प्रस्तुत कर बताया कि कोस्टूयम ज्वैलरी उद्यमी प्रशिक्षण शिविर कार्यक्रम में संस्थान द्वारा कुल 25 प्रतिभागियों को सफलतापूर्वक ट्रेनिंग दी गयी और बताया कि संस्थान द्वारा प्रतिभाशाली एवं कुशल प्रंिशक्षकों के माध्यम से प्रशिक्षण दिया जाता हैं। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सी.एस. परमार ने बताया कि आर सेटी का मुख्य उद्देश्य बेरोजगार युवक युवतियों व महिलाओं को अपने पैरों पर खड़ा कर स्वरोजगार से जोडना है और प्रशिक्षण देकर उन्हे बैंक लोन के जरिये बैकों से जोडा जाता है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुये अतिथियों ने आरसेटी द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रमों की सराहना करते हुये कहा कि इन प्रशिक्षणों से बेरोजगारों को रोजगार तो मिलता ही है साथ ही नारी शक्ति को भी बढावा मिलता है। और महिलाओं को अपने स्वाभीमान से जीनें का नया मार्ग भी आरसेटी द्वारा प्रशस्त किया जाता है। उन्होने कहा कि आज के समय में महिलाएं पुरूषों के मुकाबले कही पीछे नही है। और महिलाओं को बराबरी का अधिकार दिलाने व उन्हे सक्षम बनाने के लिये यह प्रयास एसबीआई और भारत सरकार के ग्रामीण स्वरोजगार मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से आरसेटी के माध्यम से किये जा रहे है। उन्होने कहा कि आरसेटी योग्यता पहचानकर प्रशिक्षण तो देता ही है साथ ही उन्हे व्यापार करवाने के लिये भी लोन उपलब्ध करवाता है जिससे वह अपना रोजगार कमाने में सक्षम हो सके। कार्यक्रम के समापन पर अतिथियों द्वारा सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित किये गये व सभी प्रतिभागियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की। प्रशिक्षण समन्वयक मुकेश भानुशाली ने बताया कि आगामी प्रशिक्षण शिविर में वूमेन्स टेलर्स, मधुमक्खी पालन, लाईट मोटर व्हीलक और कैण्डल मेंकिंग के बैंचो का आयोजन किया जाना तय किया गया है जिसके लिए प्रतिभागी जल्द से  जल्द अपना रजिस्ट्रेशन फार्म निःशुल्क भरवाकर जमा करवायें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *