गोशाला व कांजी हाउस में कंप्यूटर और इंटररनेट की बाध्यता का आदेश वापिस लेने की मांग को लेकर ज्ञापन

गोशाला व कांजी हाउस में कंप्यूटर और इंटररनेट की बाध्यता का आदेश वापिस लेने की मांग को लेकर ज्ञापन

हनुमानगढ़। गोशाला व कांजी हाउस में कंप्यूटर और इंटररनेट की बाध्यता का आदेश वापिस लेने की मांग को लेकर सोमवार राजस्थान गो सेवा समिति के प्रतिनिधि मंडल ने गोपालन मंत्री के नाम का ज्ञापन जिला कलेक्टर को सौंपा। ज्ञापन में बताया गया है कि जिले की समस्त गोशालाओं में 1 जनवरी 2019 से कंप्यूटरीकरण एवं इंटरनेट की व्यवस्था करने के निर्देश जारी किए गए हैं। संगठन सदस्यो ने बताया कि जिले में संचालित गोशालाओ की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है गौशाला संचालक पहले से ही कर्ज से दबे हुए हैं ऐसी स्थिति में गोशालाओं द्वारा कंप्यूटर व इंटरनेट की व्यवस्था करना प्रत्येक गौशालाओं के लिऐ संभव नहीं है। उन्होंने बताया कि अधिकांशत गोशालाए गांव में संचालित है इसलिए न तो गौशालाओं में कंप्यूटर लगाने के लिए व्यवस्थित कार्यालय उपलब्ध है ना ही इंटरनेट और कंप्यूटर चलाने के लिए एक पढ़े लिखे व्यक्ति की व्यवस्था है। ग्रामीण परिवेश के लोग ही गौशालाओं का संचालन कर रहे हैं इसलिए इन गौशालाओं में कंप्यूटर का उपयोग नहीं हो पाएगा।उन्होंने बताया कि गौशालाओं को दिए जाने वाला अनुदान पहले भी ऑनलाइन ही बैंक खातों में जमा होता आ रहा है इसके अलावा गौशाला संचालक गोशाला संचालन के लिए भामाशाह व दानदाताओं से सहयोग मांग मांग कर सहायता प्राप्त करने से दुखी है। पूर्वव्रती सरकार ने गोशाला संचालको से वादाखिलाफी भी की है। ज्ञापन में उक्त आदेश का पुनर्मूल्यांकन करवाते हुए इसे निरस्त करने की मांग की गई है।इस दौरान राजस्थान गो सेवा समिति के अध्यक्ष बजरंग सिंह शेखावत, सचिव विजय रोंता, ,विजय गोयल,मनोहरलाल बंसल , अजय गर्ग, बंसीलाल व्यास, महावीर प्रसाद लाटा, जयचंद धनेरिया, दलीप सिंह राठौड़ ,अभयपाल ऐचरा, पप्पू सिंह, ओम रोझ आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *