संयुक्त राजस्थान रोडवेज कर्मचारी संघर्ष समिति आगार ने मुख्य प्रबंधक को ज्ञापन सौंपा

संयुक्त राजस्थान रोडवेज कर्मचारी संघर्ष समिति आगार ने मुख्य प्रबंधक को ज्ञापन सौंपा

हनुमानगढ़। एटक, इन्टक,, बीजेएमएम की संयुक्त राजस्थान रोडवेज कर्मचारी संघर्ष समिति आगार हनुमानगढ़ द्वारा शुक्रवार को मुख्य प्रबंधक हनुमानगढ को कर्मचारियों की आगार स्तर पर मुख्यालय स्तर की समस्याओं का समाधान करवाने व मुख्यालय जयपुर के कार्यालय आदेशों की पूर्णारूप से पालना करवाने हेतु ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के अनुसार हनुमानगढ़ आगार स्तर की समस्याये बढती जा रही है व मुख्यालय जयपुर द्वारा समय समय पर किये गये कार्यालय आदेशों की पूर्ण रूप से पालना नही करवाई जा रही है। मुख्य मांगों में चालकों/परिचालकों को समय पर छुट्टी नही दी जा रही और न ही समय पर मुख्यालय आदेशों के तहत साप्ताहिक विश्राम व न ही ऑन डयूटी रेस्ट दिया जा रहा है, उल्टा रंजिशवंश कर्मचारियों के नाम किमी निरस्तीकरण के मामले बनाये जाते है। छुटटी के लिेय रजिस्टर महोना चाहिए जिससे परिचालक सुबह मार्ग पर जाते समय व ऑफ होते समय उस रजिस्टर में अपनी छुटटी की अर्जी की एन्टरी कर सके व एक डिस्पेच नम्बर रजिस्टर भी होना चाहिए जिसमें नम्बर लगाकर समय व दिनांक अंकित कर सके। मैकेनिकों की कार्य लेने की व्यवस्था कार्यशाला में सुचारू रूप से नही है कहीं पर तो बिना काम ही फालतू कर्मचारी लगा रखे है जहां पर जरूरत है वहां पर एक ही कर्मचारी को भार दिया गया है। रात के समय बिजली, बैन्टरी, लाईट में व्यवस्था सही नही है। दिन में वाहन कम ऑफ होते है वहां ज्यादा कर्मचारी लगाये गये है। मुख्य प्रंबधक कार्यालय में कुछ कर्मचारियों के पास काम ही नही है और कुछ विकलांग कर्मचारियों को जान बूझकर काम का बोझ देकर रंजिशवंश परेशान किया जा रहा है। सीनियर परिचालक को उसकी सीनियरटी का काम न देकर जूनियर परिचालक को लगाया गया है और सीनियर परिचालक को जानबूझकर बदला गया जिनकी काम की छवि बढिया थी उनकों बदला गया व जिन्होने घपला कर भ्रष्टाचार किया उनकों उसी सीट पर लगाया गया। जिन कर्मचारियों से पद के अनुरूप कार्य न लेकर मैडिकल अनफिट के आधार पर हल्की डयूटी का कार्य दिया जा रहा है उनके मेडिकल प्रमाण पत्र सही नही है यदि है तो दिखाये जाये जिनका मैडिकल अनफिट प्रमाण पत्र नही होने पर हटया गया उनकों मुख्य प्रबंधक द्वारा मेडिकल अनफिट प्रमाण पत्र दिलवाने क प्रयास किये गये। हनुमानगढ़ टाउन में नई इन्कवारी खोलकर एक कर्मचारी को बेफालतू बिठाकर रोडवेज को नुकसान पहुाया जा रहा है। अक्टूबर माह की शीतकालीन समय सारणी को ट्रैफिक मैनेजर द्वारा जानबूझकर तोडा मरोडा गया है सिर्फ कर्मचारियों को परेशान करने व दबाव की राजनीति खेलकर वसूली के चक्कर में 12-12 घंटे के शडयूल बनाये गये है और अच्छी आय के शडयुल को तोडा गया है इससे लोक परिवहन वाहनों को फायदा दिया गया है। ईटीआई एम मशीनों की कमी को पूरा किया जाये व कुछ एक्सप्रैस लम्बे मार्गो को चिन्हित कर वहां पर यात्री बुक देने के आदेश दिये जाये, मेडिकल अनफिट चालकों से बुकिंग पर जिन रोडवेज कर्मचारियेां द्वारा स्टेपनी के तौर पर अन्य आदमी से काम लिया जा रहा है उन पर रोक लगाई जाये जो कि ट्रैफिक मैनेजर की जिम्मेदारी बनती है। कर्मचारियों के विरूद्ध डीजल कमानी किलोमीटर निरस्तीकरण के जो मामले बनाये गये है उनकों बिना किसी भेदभाव पूर्ण रवैये के जांचकर निरस्त किये जाये, सेवानिवृत कर्मचारियो ंव सेवारत कर्मचारियों के बकाया भुगतान को जल्द से जल्द दिलवाये जाने की कार्यवाही पूर्ण की जाये, अच्छी आय लाने वाले परिचालकों को बेवजह परेशान करने के लिए उनके मार्गो का परिर्वतन नही किया जाये व अन्य 17 सुत्री मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से चेतावनी दी गई है कि अगर एक सप्ताह के अन्दर इन मांगों का समाधान नही गया तो कर्मचारी एक सप्ताह के बाद कभी भी आन्दोलन करने को मजबूर होगे। ज्ञापन देने वालों में एटक से नायब सिंह, अवतार सिंह, इंटक से अंग्रेज सिंह, जसवंत सिंह, भूरा सिंह, बीजेएमएम से दुलीचंद, रणजीत सिंह, गुरदीप सिंह चहल, फुल सिंह मास्टर व अन्य कर्मचारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *