अंतः सलिला : अज्ञेय



अंत: सलिला रेत का विस्तार

नदी जिस में खो गयी

कृश-धार :

झरा मेरे आंसुओं का भार

-मेरा दुःख-धन,

मेरे समीप अगाध पारावार –

उस ने सोख सहसा लिया

जैसे लुट ले बटमार।

और फिर अक्षितिज

लहरीला मगर बेटूट

सूखी रेत का विस्तार –

नदी जिस में खो गयी

कृश-धार।


किन्तु जब-जब जहाँ भी जिस ने कुरेदा

नमी पायी : और खोदा –

हुआ रस-संचार :

रिसता हुआ गड्ढा भर गया।

यों अनजान पा पंथ

जो भी क्लांत आया, रुका ले कर आस,

स्वल्पायास से ही शांत

अपनी प्यास

इस से कर गया :

खींच लंबी साँस

पार उतर गया।

अरे, अंत: सलिल है रेत :

अनगिनत पैरों तले रौंदी हुई अविराम फिर भी घाव अपने आप भारती,

पड़ी सहज ही,

धूसर-गौर,

निरीह और उदार! (1959 ,आँगन के पार द्वार )

Comments

Popular posts from this blog

'वैवाहिक बलात्कार'(Marital Rape) - सच या सिर्फ सोच? : दीपाली

वीरांगना नांगेली

वीर योद्धा राणा सांगा की शौर्य गाथा (A Story of Great Worrier Rana sanga)

भारतीय साहित्य में विभाजन का दर्द

संयुक्त राष्ट्र की भाषाओं में हिंदी शामिल

महिला सशक्तिकरण या समाज का सच : दीपाली

Blood & Faith - Matthew Carr

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की मशहूर शायरी

विश्व आदिवासी दिवस, 2022

सत्य वचन (उत्तराखंड की लोक कथा) : भूपेंद्र रावत