अंतर्राष्ट्रीय सहकारिता दिवस : 2022



2 जुलाई को, दुनिया भर की सहकारिताएं सहकारिता का 100वां अंतर्राष्ट्रीय दिवस (#CoopsDay) मनाएंगी। संयुक्त राष्ट्र अंतर्राष्ट्रीय सहकारिता वर्ष के एक दशक बाद, जिसने दुनिया को एक बेहतर जगह बनाने के लिए सहकारी समितियों के अद्वितीय योगदान को प्रदर्शित किया, इस वर्ष का #CoopsDay का नारा - "सहकारिता एक बेहतर विश्व का निर्माण" - अंतर्राष्ट्रीय वर्ष की थीम को प्रतिध्वनित करती है।

संयुक्त राष्ट्र दुनिया भर में सहकारी समितियों को यह मनाने के लिए आमंत्रित करता है कि कैसे मानव-केंद्रित व्यापार मॉडल, स्वयं सहायता, आत्म-जिम्मेदारी, लोकतंत्र, समानता, समानता और एकजुटता के सहकारी मूल्यों और ईमानदारी, खुलेपन, सामाजिक के नैतिक मूल्यों से प्रेरित है। जिम्मेदारी और दूसरों की देखभाल करना, एक बेहतर दुनिया का निर्माण करना है।

दुनिया भर में काम करते हुए, अर्थव्यवस्था के कई अलग-अलग क्षेत्रों में, सहकारी समितियों ने खुद को औसत से अधिक संकटों के प्रति अधिक लचीला साबित किया है। वे आर्थिक भागीदारी को बढ़ावा देते हैं, पर्यावरणीय गिरावट और जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ते हैं, अच्छी नौकरियां पैदा करते हैं, खाद्य सुरक्षा में योगदान करते हैं, स्थानीय समुदायों के भीतर वित्तीय पूंजी रखते हैं, नैतिक मूल्य श्रृंखला बनाते हैं, और लोगों की भौतिक स्थितियों और सुरक्षा में सुधार करके सकारात्मक शांति में योगदान करते हैं।


 अंतर्राष्ट्रीय सहकारिता दिवस के बारे में :

 1923 से दुनिया भर में सहकारी समितियों द्वारा चिह्नित और 1995 में आईसीए की शताब्दी पर संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आधिकारिक रूप से घोषित, अंतर्राष्ट्रीय सहकारिता दिवस जुलाई के पहले शनिवार को प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

 #CoopsDay का उद्देश्य सहकारी समितियों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और अंतर्राष्ट्रीय एकजुटता, आर्थिक दक्षता, समानता और विश्व शांति के आंदोलन के विचारों को बढ़ावा देना है। 1995 के बाद से, आईसीए और संयुक्त राष्ट्र ने सहकारिता के संवर्धन और उन्नति के लिए समिति (सीओपीएसी) के माध्यम से संयुक्त रूप से #CoopsDay के उत्सव के लिए विषय निर्धारित किया है।

 #CoopsDay के माध्यम से, स्थानीय, राष्ट्रीय और वैश्विक नीति निर्माता, नागरिक-समाज संगठन और आम जनता सभी के सुरक्षित भविष्य के लिए सहकारी समितियों के योगदान के बारे में जान सकती है।



*उपरोक्त छायाचित्र सोशल मीडिया से प्राप्त 

Comments

Popular posts from this blog

'वैवाहिक बलात्कार'(Marital Rape) - सच या सिर्फ सोच? : दीपाली

वीरांगना नांगेली

वीर योद्धा राणा सांगा की शौर्य गाथा (A Story of Great Worrier Rana sanga)

भारतीय साहित्य में विभाजन का दर्द

संयुक्त राष्ट्र की भाषाओं में हिंदी शामिल

महिला सशक्तिकरण या समाज का सच : दीपाली

Blood & Faith - Matthew Carr

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की मशहूर शायरी

विश्व आदिवासी दिवस, 2022

सत्य वचन (उत्तराखंड की लोक कथा) : भूपेंद्र रावत