विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस (Word Food Safety Day)

 

विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस 7 जून को विश्व स्तर पर मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य विभिन्न खाद्य जनित जोखिमों और इसे रोकने के उपायों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। आज खाद्य सुरक्षा बहुत महत्वपूर्ण है और जीवन के विभिन्न अन्य महत्वपूर्ण कारकों जैसे मानव स्वास्थ्य, आर्थिक विकास और कई अन्य से संबंधित है।  साथ ही, यह दिन निश्चित रूप से खाद्य सुरक्षा और कृषि, सतत विकास और बाजार पहुंच जैसे अन्य तत्वों के बीच संबंध बनाने में सुनिश्चित करता है।


विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस का इतिहास:

 दिसंबर 2018 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा  विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस अपनाया गया। प्रथम खाद्य सुरक्षा दिवस 2019 का विषय "खाद्य सुरक्षा, सभी का व्यवसाय" था। इस दिशा में, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) के सहयोग से 7 जून 2019 के बाद से 7 जून को पहले खाद्य सुरक्षा दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया। खाद्य सुरक्षा में कटाई, प्रसंस्करण, भंडारण, वितरण से लेकर उपभोग तक, भोजन को सुरक्षित रखने की दिशा में एक समग्र दृष्टिकोण शामिल है।


विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस 2022 का महत्व :

 कोविड -19 संकट को देखते हुए, स्वास्थ्य देखभाल सुनिश्चित करने के लिए अब से अधिक सख्त आवश्यकता कभी नहीं रही। प्रतिरक्षा को मजबूत करना, खाद्य जनित बीमारियों के प्रसार को समाप्त करना, कृषि डोमेन, बाजार और हर जगह जहां खाद्य सौदे शामिल हैं, स्वस्थ, स्वच्छ प्रथाओं को विकसित करना और अधिक अनिवार्य हो गया है।

 विश्व खाद्य सुरक्षा का प्रयास हमेशा दुनिया भर में भोजन के माध्यम से बीमारियों के जोखिम को कम करने का रहा है। खाद्य सुरक्षा विश्व खाद्य सुरक्षा का एक सार्वजनिक एजेंडा है जिसका लक्ष्य है:

  • खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के तरीके प्रदान करें,
  • भोजन के माध्यम से बीमारियों की रोकथामस
  • सभी भी क्षेत्रों में खाद्य सुरक्षा के लिए सहयोगी दृष्टिकोण प्रदान करना
  • संक्रामक रोगों को बेहतर ढंग से प्रबंधित और नियंत्रित करने के लिए कार्यक्रमों को विकसित और प्रायोजित करना
  • इस समस्या से होने वाली मौतों को रोकना।
सांख्यिकीय आंकड़ों से पता चलता है कि हर साल लगभग 600 मिलियन लोग इस प्रकार के खाद्य जनित रोगों के शिकार होते हैं और जिनमें से बच्चे (5 वर्ष से कम) और गरीबी से पीड़ित वर्ग अस्वच्छ भोजन के सेवन से बीमारियों की चपेट में अधिक आते हैं। 

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में विभाजन का दर्द

वीरांगना नांगेली

संयुक्त राष्ट्र की भाषाओं में हिंदी शामिल

'वैवाहिक बलात्कार'(Marital Rape) - सच या सिर्फ सोच? : दीपाली

महिला सशक्तिकरण या समाज का सच : दीपाली

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की मशहूर शायरी

ग्रीन हाइड्रोजन के क्षेत्र में भारत

बाबूजी की साईकिल : अभिनव

Blood & Faith - Matthew Carr

सत्य वचन (उत्तराखंड की लोक कथा) : भूपेंद्र रावत