विश्व पर्यावरण दिवस (Word Environment Day)



विश्व पर्यावरण दिवस पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु पूरे विश्व में मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने की घोषणा संयुक्त राष्ट्र ने पर्यावरण के प्रति वैश्विक स्तर पर राजनीतिक और सामाजिक जागृति लाने हेतु वर्ष 1972 में की थी। इसे 5 जून से 16 जून तक संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन में चर्चा के बाद शुरू किया गया था। 5 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया। औद्योगीकरण के कारण पर्यावरण को संभावित नुकसान से बचाने के आह्वान के बाद संयुक्त राष्ट्र ने 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में मनाने के लिए नामित किया।

विश्व पर्यावरण दिवस हर साल 5 जून को मनाया जाता है। विश्व पर्यावरण दिवस का उद्देश्य बढ़ते प्रदूषण स्तर और जलवायु परिवर्तन के कारण पर्यावरण को होने वाले खतरे के बारे में जागरूकता फैलाना है।

पहला विश्व पर्यावरण दिवस 1974 में मनाया गया था, जो पर्यावरण में सकारात्मक बदलाव को प्रेरित करने के लिए एक वैश्विक मंच प्रदान करता है। पहले विश्व पर्यावरण दिवस की थीम 'केवल एक पृथ्वी' थी।

इस दिन, सरकारें, गैर सरकारी संगठन और नागरिक पर्यावरण के संरक्षण के महत्व से ऊपर जागरूकता फैलाने और पर्यावरण पर मानव गतिविधि के प्रभाव को नकारने के लिए अपना प्रयास करते है।

विश्व पर्यावरण दिवस 2022 इतिहास :-

विश्व पर्यावरण दिवस की स्थापना संयुक्त राष्ट्र महासभा स्टॉकहोम सम्मेलन 1972 में की गयी। पर्यावरण संरक्षण को एक प्रमुख मुद्दा बनाने के लिए यह दुनिया का पहला सम्मेलन था। विश्व पर्यावरण दिवस पहली बार वर्ष 1974 में मनाया गया था। पर्यावरण दिवस ने जागरूकता बढ़ाने के लिए एक मंच तैयार किया, क्योंकि दुनिया वायु प्रदूषण जैसी समस्या का सामना कर रही है। पिलास्टिक प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिंग और समुद्र का स्तर दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है, जोकि आज के समय की सबसे बड़ी चुनौतियाँ हैं।


विश्व पर्यावरण दिवस 2022 थीम :

 वर्ष 2022 में, स्वीडन विश्व पर्यावरण दिवस का मेजबान है। मेजबान होने के नाते इस साल स्वीडन विश्व पर्यावरण दिवस मनाने जा रहा है। इस वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस की थीम है ' केवल एक धरती '। सभी आधिकारिक कार्यक्रम स्वीडन में आयोजित किए जाएंगे। थीम का विचार केवल एक पृथ्वी 'प्रकृति और जीवन को बचाकर शांति, सद्भाव, समृद्धि और स्वास्थ्य के लिए अनुकूल माहौल बनाने की दिशा में दुनिया की एकजुटता पर ध्यान केंद्रित करना है। थीम की नीति एक ऐसी जीवन शैली बनाना और अपनाना है जो प्रदूषण मुक्त और हरी-भरी भूमि से भरी हो। प्रकृति मां की रक्षा के लिए उद्देश्य अब भी वैसा ही है जैसा 50 साल पहले था। यह ग्रह ही हमारा एकमात्र घर है और हमें इसे आने वाली पीढ़ियों के लिए बचाने की जरूरत है।


विश्व पर्यावरण दिवस का महत्व :

यह सबसे अच्छा समय है ज़ब तत्काल आधार पर उपयुक्त पहल की जानी चाहिए। जैसा कि हम सभी पिछले दो वर्षों से महामारी का सामना कर रहे हैं, इसने पहले की तरह सुरक्षित, स्वच्छ और टिकाऊ पर्यावरण के महत्व पर प्रकाश डाला है। अब, हम सभी के लिए धरती माता और उसके संसाधनों की देखभाल करना अतिआवश्यक है। ग्लोबल वार्मिंग एक बहुत बड़ा खतरा है जो हमें एक स्वस्थ जीवन और प्रकृति की सुरक्षा को सुरक्षित करने की चुनौती दे रहा है। पृथ्वी को ग्लोबल वार्मिंग से बचाने के लिए जागरूकता फैलाने और सुधारात्मक उपाय करने की दिशा में भारत पहले ही कई कदम उठा चुका है।

प्रत्येक संसाधन के उपयोग की देखभाल करना हमारी पहली और सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। पर्यावरण अत्यधिक प्रदूषित और विषाक्त पदार्थों से भरा हो गया है जिसका हमारे स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है। विश्व पर्यावरण दिवस हमें इसके बारे में कुछ करने और पर्यावरण को बेहतर बनाने के लिए प्रेरित करता है जिसके बिना हम नहीं रह सकते हैं।


कुछ पहल, जिनकी की आवश्यकता है :

1. दिन-प्रतिदिन के आधार पर प्लास्टिक का उपयोग बंद करें।

2. एक वर्ष में एक पेड़ लगाना चाहिए।

3. अपने समाज को स्वच्छ रखने और स्वच्छता बनाए रखने की पहल करें।

4. कचरा नदी और समुद्र में न फेंके।

5. चीजों का उपयोग करने में सावधान रहें और उन्हें रीसायकल करें।

6. चीजों का पुन: उपयोग करने का प्रयास करें।

7. कम ड्राइव करें और साइकिल की अधिक सवारी करें।

8. जितना हो सके पानी बचाएं।

9. संसाधनों का न्यूनतम स्तर तक दोहन।

10. तेजाब और रसायनों को नदियों में न जाने दें।

11. लकड़ी और पेड़ के उपयोग को कम करके वन क्षेत्र को बढ़ाया जाना चाहिए।


विश्व पर्यावरण दिवस पर, आइए प्रकृति को नुकसान पहुंचाना बंद करें... आइए एक सकारात्मक बदलाव लाने के लिए हाथ मिलाएं ताकि पृथ्वी ग्रह को रहने के लिए एक अधिक स्वस्थ, हरा-भरा और खुशहाल स्थान बनाया जा सके"।🙏🙏 


स्रोत्र :- timesofindia.com.


Comments

  1. महत्वपूर्ण जानकारी, विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

भारतीय साहित्य में विभाजन का दर्द

वीरांगना नांगेली

संयुक्त राष्ट्र की भाषाओं में हिंदी शामिल

'वैवाहिक बलात्कार'(Marital Rape) - सच या सिर्फ सोच? : दीपाली

महिला सशक्तिकरण या समाज का सच : दीपाली

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की मशहूर शायरी

ग्रीन हाइड्रोजन के क्षेत्र में भारत

बाबूजी की साईकिल : अभिनव

Blood & Faith - Matthew Carr

सत्य वचन (उत्तराखंड की लोक कथा) : भूपेंद्र रावत