अडानी समूह की सीमेंट क्षेत्र में एंट्री

ऊर्जा-से-उपभोक्ता समूह अडानी समूह ने स्विस सीमेंट की दिग्गज कंपनी हॉलसिम लिमिटेड के साथ अपने सीमेंट व्यवसाय का अधिग्रहण करने के लिए एक बाध्यकारी समझौता किया है। भारत में, जो अडानी समूह को देश की दूसरी सबसे बड़ी सीमेंट कंपनी के रूप में स्थान देगा। अदानी द्वारा किया गया यह अधिग्रहण न केवल समूह का अब तक का सबसे बड़ा बल्कि बुनियादी ढांचे और सामग्री के क्षेत्र में भारत का अब तक का सबसे बड़ा M&A लेनदेन है।

इस सौदे में सीमेंट की बड़ी कंपनियों अंबुजा सीमेंट्स और एसीसी लिमिटेड में होल्सिम की हिस्सेदारी 81,400 करोड़ रुपये या 10.5 बिलियन डॉलर मूल्य के बुनियादी ढांचा समूह अडानी समूह को बेचना शामिल है। होलसिम की अंबुजा सीमेंट्स में 63.19 फीसदी और ACC में 54.53 फीसदी हिस्सेदारी थी। इसके अलावा, रिपोर्टों से पता चलता है कि अडानी समूह सार्वजनिक शेयरधारकों के शेयरों को खरीदने के लिए और 3-3.5 बिलियन डॉलर का उपयोग कर सकता है।

अंबुजा सीमेंट्स के लिए ऑफर साइज 385 रुपये प्रति शेयर और अंबुजा सीमेंट्स के लिए 2,300 रुपये है, जो मौजूदा कीमत से लगभग 8-9% प्रीमियम पर है। एक सफल ओपन ऑफर पर, अंबुजा और ACC में अडानी समूह की हिस्सेदारी क्रमशः 89 फीसदी और 81 फीसदी हो जाएगी, जिससे यह भारत की दूसरी सबसे बड़ी सीमेंट कंपनी बन जाएगी, जिसकी क्षमता लगभग 70 MTPAसीमेंट है।

वैश्विक औसत सीमेंट खपत 525 केजी/कैपिटा है, जिसमें से भारत का हिस्सा केवल 242 केजी /कैपिटा है, जो देश में एक जबरदस्त विकास अवसर का संकेत देता है। अडानी समूह एक विशिष्ट एकीकृत और विशिष्ट व्यवसाय मॉडल बनाने में विश्वास रखता है, जो इसे महत्वपूर्ण क्षमता विस्तार के लिए स्थापित करेगा।

संदर्भ  : इन्वेस्टिंग. कॉम 




Comments

Popular posts from this blog

'वैवाहिक बलात्कार'(Marital Rape) - सच या सिर्फ सोच? : दीपाली

वीरांगना नांगेली

वीर योद्धा राणा सांगा की शौर्य गाथा (A Story of Great Worrier Rana sanga)

भारतीय साहित्य में विभाजन का दर्द

संयुक्त राष्ट्र की भाषाओं में हिंदी शामिल

महिला सशक्तिकरण या समाज का सच : दीपाली

Blood & Faith - Matthew Carr

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की मशहूर शायरी

विश्व आदिवासी दिवस, 2022

सत्य वचन (उत्तराखंड की लोक कथा) : भूपेंद्र रावत