मल्टी एकसेस एज कम्प्यूटिंग का खर्च 2027 तक 23 बिलियन डॉलर तक पहुँचने का अनुमान

 मल्टी-एक्सेस एज कंप्यूटिंग (एमईसी) पर वैश्विक खर्च 2027 तक 22.7 अरब डॉलर तक पहुंचने की संभावना है, जो इस साल 8.8 अरब डॉलर था। सोमवार को एक नई रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है।जुनिपर रिसर्च के अनुसार, 260 प्रतिशत की यह वृद्धि ऑन-प्रिमाइसेस मशीन लर्निग और लो-लेटेंसी 5जी तकनीक द्वारा सक्षम कनेक्टिविटी के लिए बढ़ती आवश्यकताओं से प्रेरित होगी।

रिपोर्ट में पाया गया कि एडब्ल्यूएस, आईबीएम और माइक्रोसॉफ्ट (NASDAQ:MSFT) जैसी उन्नत प्रौद्योगिकी कंपनियों के साथ ऑपरेटर साझेदारी एमईसी नोड रोल-आउट के विकास को प्राप्त करने के लिए आवश्यक होगी। 2027 तक 3.4 मिलियन से अधिक एमईसी नोड्स तैनात किए जाएंगे।

रिपोर्ट में कहा गया है, 2027 तक 1.6 अरब से अधिक मोबाइल यूजर्स के पास एमईसी नोड्स द्वारा समर्थित सेवाओं तक पहुंच होगी, जो 2022 में केवल 39 करोड़ थी।

इसके अलावा, मोबाइल क्लाउड कंप्यूटिंग अगले पांच वर्षों में मोबाइल यूजर्स के बीच अत्यधिक मूल्यवान एमईसी सेवा होने का अनुमान है।

रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है, प्रसंस्करण शक्ति को एमईसी नोड्स के माध्यम से क्लाउड में स्थानांतरित करने से, यूजर्स को तेज प्रसंस्करण शक्ति और छोटे रूप कारकों वाले उपकरणों से लाभ होगा।

इसने एमईसी रोल-आउट बढ़ाने के प्रमुख लाभार्थियों के रूप में स्वायत्त वाहनों और स्मार्ट शहरों की पहचान की।

यह सेलुलर डेटा को यात्रा करने के लिए आवश्यक भौतिक दूरी को कम करके नेटवर्क तनाव को कम करेगा।

इसके अतिरिक्त, रिपोर्ट में कहा गया है कि वीडियो स्ट्रीमिंग, क्लाउड गेमिंग और इमर्सिव रियलिटी सहित डिजिटल कंटेंट की डिलीवरी, एमईसी नोड्स की भौगोलिक निकटता से लाभान्वित होगी और वीडियो कैशिंग और कम्प्यूटेशनल ऑफलोड में सुधार करके मूल्य प्रस्ताव में वृद्धि करेगी।

स्रोत : आईएएनएस व इन्वेस्टिंग डॉट कॉम 










Comments

Popular posts from this blog

'वैवाहिक बलात्कार'(Marital Rape) - सच या सिर्फ सोच? : दीपाली

वीरांगना नांगेली

वीर योद्धा राणा सांगा की शौर्य गाथा (A Story of Great Worrier Rana sanga)

भारतीय साहित्य में विभाजन का दर्द

संयुक्त राष्ट्र की भाषाओं में हिंदी शामिल

महिला सशक्तिकरण या समाज का सच : दीपाली

Blood & Faith - Matthew Carr

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की मशहूर शायरी

विश्व आदिवासी दिवस, 2022

सत्य वचन (उत्तराखंड की लोक कथा) : भूपेंद्र रावत